Domain authority क्या होती है एवं ब्लॉग की DA इनक्रीस कैसे करें?

Domain authority क्या होती है एवं ब्लॉग की DA इनक्रीस कैसे करें?

दोस्तों एक बार फिर से हाजिर हैं। हम आपके सामने एक और न्यू इंपॉर्टेंट आर्टिकल के साथ आज के इस आर्टिकल के अंदर हम आपको डोमेन अथॉरिटी के बारे में बताने जा रहे हैं। आपको यहां पर जानने के लिए मिलेगा के डोमिनोस रोटी क्या होती है।और ब्लॉग की DA को कैसे बढ़ाया जा सकता है?अगर आप लोग भी एक ब्लॉगर हैं। और ब्लॉगिंग का काम कर रहे हैं। या फिर करना चाहते हैं। फिर तो आज की इस पोस्ट को आप को शुरू से लेकर अंत तक जरूर पढ़ना चाहिए। क्योंकि आज किस पोस्ट के अंदर हम आपके लिए बहुत ही इंपॉर्टेंट जानकारी लेकर के आए हैं। जो कि आपके ब्लॉगिंग के काम में आपके लिए बहुत ज्यादा यूज फुल होने वाली है। तो चलिए दोस्तों आज की इस इनफॉर्मेटिव एंड इंटरेस्टिंग पोस्ट को शुरू करते हैं।

डोमेन अथॉरिटी क्या होती है?

जैसा की आप सभी लोगों को पता ही होगा हम ऑनलाइन पैसा कमाने के लिए एक ब्लॉग बनाते हैं। उसके बाद हमें उस पर कंटेंट लिखकर शेयर भी करने पड़ते हैं। आपको बता दें कि आप जो भी कंटेंट लिखे उसकी क्वालिटी एकदम एक्सीलेंट होनी चाहिए उसके बाद ही आपका ब्लॉग रैंक कर सकता है चाहे कोई भी वेबसाइट हो उसकी रैंकिंग के लिए ब्लॉग पोस्ट के अंदर अच्छी क्वालिटी वाले आर्टिकल्स एवं परफेक्ट बैकलिंक्स का होना बहुत ही ज्यादा जरूरी होता है। दोस्तों वैसे तो ब्लॉग हर कोई बना लेता है। मगर उसको अच्छे से मैनेज करना हर एक व्यक्ति नहीं जानता है। क्योंकि ब्लॉग की रैंकिंग में ऐसी छोटी-छोटी बहुत सी बातें होती हैं।

जिन्हें आप को ध्यान में रखना होता है। जब आप लोग अपना ब्लॉग बना लेते हो तो उसके बाद आपको ब्लॉग के SEO पर ध्यान देना होता है।और आपको अपने ब्लॉग को डायरेक्टरी सबमिशन मैं सबमिट करना पड़ता है। ब्लॉग बनाने के बाद उसे कैसे ऑप्टिमाइज कर सकते हैं। ब्लॉग की सभी छोटी-छोटी बातों के बारे में आपको जानना चाहिए और शायद आप लोग इस बात को तो जानते ही होंगे कि वेबसाइट या फिर ब्लॉग के अंदर अलग प्रकार से दूसरी डोमेन प्रोवाइडर से खरीद के ब्लॉग से डोमेन को लिंक करते हैं।

Domain authority की पूरी परिभाषा?

जब हम अपने डोमेन को किसी ब्लॉग से लिंक कर देते हैं। तो जिस वेब एड्रेस पर ब्लॉग खुलता है। वैसे तो आपने देखा भी होगा जो आप लोग किसी ब्राउज़र के अंदर ब्लॉग के एड्रेस या फिर उस के नाम को लिखकर सर्च करते हो तो ऐसा होने पर आपका ब्लॉग आपके सामने खुलकर आ जाता है। जब आपका ब्लॉग खुल जाता है। तो उसके ब्राउज़र के अंदर जो URL क नाम होता है। वही डोमेन कहलाता है। मगर ऐसा यहां पर बिल्कुल नहीं है। कि आप लोग इस पोस्ट को पढ़ रहे हो और आपको डोमिन के बारे में पता नहीं हो अगर आप लोग हमारे इस पोस्ट पर आए हैं। तो इसका मतलब यही है। कि आप अपने लिए एक ब्लॉग क्रिएट कर चुके हैं।

और आप लोग अपने ब्लॉग को रैंक करना चाहते हो इसलिए आप हमारी पोस्ट पर आए हो आपको बता दें चाहे कोई भी ब्लॉग हो उसकी रैंकिंग के लिए डोमेन अथॉरिटी को इनक्रीस करना बहुत ही इंपॉर्टेंट होता है। क्योंकि जब आपकी तो डोमेन अथॉरिटी बढ़ने लगेगी तो इससे आपका डोमेन स्कोर भी बढ़ेगा और इससे आपके ब्लॉग पर बैंक लिंक बनती हैं। और फिर ब्लॉग या फिर वेबसाइट हो वह बहुत ही तेजी से रैंक करती हैं। दोस्तों किसी ब्लॉग को कौन सी वेबसाइट से कितना Proffered करेगा या फिर आपके ब्लॉग से कितनी बैकलिंक बनाएगा उसके बाद ही किसी अन्य high DA p a ब्लॉग के द्वारा बैकलिंक ऐड की जाती हैं। आपको बता दें हमारे ब्लॉग के अंदर तो डोमेन स्कोर इनक्रीस होता रहता है। और यह सारी प्रक्रिया डोमेन अथॉरिटी कहलाती है।

और ऐसे में अगर आपके ब्लॉग की डोमेन अथॉरिटी अच्छे से नहीं हो पाई है। यानी कि आपको किसी अच्छे ब्लॉग के द्वारा बैकलिंक्स प्राप्त नहीं हो रही हैं। तो ऐसे टाइम पर डोमेन स्कोर बढ़ नहीं पाता है।और जब आपके ब्लॉग की डोमेन अथॉरिटी बढ़ती नहीं है। तो आपका ब्लॉग गूगल के अंदर सर्च इंजन में रह जाता है और वह रैंक नहीं कर पाता है। आपको बता दें ब्लॉग की रैंकिंग के लिए केवल डोमेन अथॉरिटी का बढ़ना काफी नहीं होता है। इसके लिए आपको domain authority एवं page authority दोनों को बढ़ाना होता है। इसी के साथ में आपको अपने ब्लॉग का SEO इसको भी बड़ाना होता है।

ब्लॉग की DA ( domain authority) इनक्रीस कैसे करें?

जब आप लोग blogger.com पर अपना ब्लॉग बनाते हो तो उसके लिए आपको सिर्फ डोमेन की जरूरत नहीं पड़ती है। मगर आप लोग जब वर्डप्रेस पर अपना ब्लॉग बनाओगे तो उसके लिए आपको होस्टिंग खरीदनी पड़ती है। इसलिए आपको यहां पर इस बात पर गौर करना पड़ेगा कि आप लोग अपना ब्लॉग वर्डप्रेस या फिर ब्लॉगर किस पर बनाना चाहेंगे इसकी जानकारी आपको नीचे मिलने वाली है। इसलिए पोस्ट को आगे तक पढ़े।

ब्लॉगर के लिए

अगर आप लोग ब्लॉगर पर अपना ब्लॉग बनाते हैं तो इसके लिए आपको सब्डोमेन के साथ में किसी भी ब्लॉगर टेंप्लेट के साथ में बिल्कुल सेम तरह का एक सब्डोमेन चुनना पड़ता है। जैसा आपने डोमेन खरीदा हो या फिर खरीदने की सोच रहे हो और जब आप लोग ब्लॉग बना लेते हो तो इसके बाद आपको उस पर सभी प्रकार की बेसिक SEO करने के बाद बहुत ही बढ़िया तरीके से SEO फ्रेंडली ब्लॉगर टेंप्लेट डाउनलोड करना पड़ता है।उसके बाद आपको उस ब्लॉग पर डाउनलोड किए हुए टेंपलीट को अपलोड करना पड़ता है।

वर्डप्रेस के लिए

अगर आप लोग वर्डप्रेस पर अपना एक ब्लॉग बनाना चाहते हैं। तो इसके लिए आपको डोमेन एवं होस्टिंग दोनों एक ही साथ में परचेस करनी पड़ती हैं। और आप चाहो तो इन्हें अलग-अलग कंपनियों से भी खरीद सकते हो जब वह आप इन दोनों चीजों को खरीद लेते हो तो इन्हें यानी कि डोमेन एवं होस्टिंग को आपस में लिंक किया जाता है। इसके बाद होस्टिंग C panel पर जाने के बाद वर्डप्रेस इनस्टॉल करते हैं। शॉर्ट में हम आपको यहां पर यही कहना चाहेंगे कि अगर आप लोग वर्डप्रेस पर अपना ब्लॉग बनाना चाहते हैं। तो इसके लिए आपको अच्छी से अच्छी डोमेन एवं होस्टिंग को खरीदना चाहिए। जब आप लोग डोमेन एवं होस्टिंग को परचेस करें तो आपको इस बात पर ध्यान देना होगा आपके ब्लॉग टॉपिक की bass keyboard जरूर आए उसके बाद ही आप लोग एक सक्सेसफुल ब्लॉगर बन सकते हो।

आपको यहां पर यह भी ध्यान रखना है। कि आपको होस्टिंग एक परफेक्ट सरवर वाली खरीदनी चाहिए। फिर इसके बाद में डोमिनो अथॉरिटी को इनक्रीस करते है। अगर आप लोग अपने डोमेन की अथॉरिटी को बढ़ाना चाहते हैं। तो इसके लिए आपको high domain authority और page authority बाली वेबसाइट के द्वारा बैक लिंक बनानी होती है। अगर आप लोग बैकलिंक्स बना रहे हैं। तो इससे पहले आपको उस particular website की स्पैम स्कोर को चेक करना बहुत ही ज्यादा इंपॉर्टेंट होता है। अगर आप लोग हाई स्पैम वाली वेबसाइट के द्वारा बैकलिंक लेते हो तो ऐसे में आपका ब्लॉग भी स्पैम माना जाता है।

अंतिम शब्द

दोस्तों उम्मीद करते हैं हमारी आज की यह पोस्ट आपके लिए काफी ज्यादा हेल्पफुल एवं यूज़फुल रही होगी आपको यह पोस्ट पसंद आई हो तो आप इसे शेयर करना बिल्कुल ना भूलें अगर फिर भी आपका इस पोस्ट से संबंधित कोई भी सवाल हो तो आप हमें कमेंट बॉक्स के माध्यम से जरूर बताएं हम आपके सवालों का जवाब जरूर देंगे धन्यवाद।

Leave a Comment