Finance क्या होता है? और यह कितने प्रकार का होता है?

Finance क्या होता है? और यह कितने प्रकार का होता है?

हेलो नमस्कार दोस्तों आज के इस नए आर्टिकल के अंदर आपका बहुत-बहुत स्वागत है। दोस्तों आज की इस आर्टिकल के अंदर हम आपको एक ऐसी अनोखी जानकारी देने जा रहे हैं। जिसका नाम तो आपने सुन रखा हुआ मगर उसके बारे में आपने बारीकी से अभी तक नहीं जान पाया होगा अगर आप लोग भी उस अनोखी जानकारी के बारे में जानना चाहते हैं तो इस पोस्ट को शुरू से लेकर एंड तक जरूर पढ़ें दरअसल दोस्तों हम फाइनेंस के बारे में बात करने जा रहे हैं। दोस्तों आप चाहे किसी भी फील्ड में जाने की इच्छा रखते हो आपको शील्ड के बारे में अच्छे से संपूर्ण जानकारी प्राप्त नहीं होगी।

तब तक आपको शिर्डी से अच्छा प्रॉफिट प्राप्त नहीं कर पाओगे और आज किस टाइम पर इंडिया में जितने भी कंपनी स्टार्ट की गई है। वह बहुत ज्यादा ग्रोथ भी कर चुकी हैं। ऐसे में आपके मन में यह सवाल जरूर आता होगा कि अगर कभी यह फाइनेंस क्या होता है? अगर आप लोग भी फाइनेंस से संबंधित पूरी इंफॉर्मेशन अपने हाथों में प्राप्त करना चाहते हैं। तो उस पोस्ट को शुरू से लेकर एंड तक पढ़ते रहिए क्योंकि इस पोस्ट के अंदर हमने फाइनेंस से संबंधित सभी प्रकार की जानकारी स्टेप बाय स्टेप बताई है। तो चलिए शुरू करते हैं।

फाइनेंस क्या होता है?

दोस्तों किसी भी व्यक्ति या फिर बिजनेस एवं सरकार को काम करने के लिए फाइनेंस की आवश्यकता होती है। फाइनेंस एक प्रकार का ट्रेन से शब्द होता है। जिसे वित्त कहते हैं। इसका मतलब हम इस प्रकार समझते हैं। कि किसी भी काम एवं उत्पादन और कंपनी को चलाने के लिए पैसों की व्यवस्था यानी कि मैनेजमेंट को फाइनेंस कहा जाता है। और चाहे कोई भी कंपनी हो उसे सुचारू रूप से चलाने के लिए स्टार्टअप लगाना बहुत ही ज्यादा मायने रखता है। अगर आप किसी भी कंपनी के लिए कोई कर्मचारी रखते है।

तो उसे भी आपको महीने की तनख्वाह देनी पड़ती है। और यह जितने सारे काम होते हैं। वह पैसों के बलबूते यानी कि पैसों के इन्वेस्टमेंट के द्वारा ही संपूर्ण हो पाते हैं। उदाहरण के तौर पर हम आपको पता है। अगर किसी व्यक्ति को कोई काम करना है। जैसे मैन्युफैक्चरिंग करनी है। या फिर बिजनेस को स्टार्ट करना है। तो इस सारी प्रोसेस के लिए व्यक्तियों को पैसों की आवश्यकता पड़ती है। ऐसे में पैसों को इन्वेस्ट करना एवं सही से उनका इस्तेमाल करने की प्रक्रिया ही फाइनेंस कहलाती है।

फाइनेंस कितने प्रकार का होता है?

दोस्तों अब तक आप लोगों ने फाइनेंस के बारे में तो जान लिया होगा अब आप मन में एक सवाल जरूर आया होगा कि आखिरकार यह फाइनेंस क्या होता है? अगर आप लोग भी यह जानना चाहते हैं। कि फाइनेंस कितने प्रकार का होता है? तो इस पोस्ट को आगे तक और पढ़ें आपको यह भी जानकारी इस पोस्ट में मिल जाएगी।

पर्सनल फाइनेंस

दोस्तों पर्सनल फाइनेंस को व्यक्तिगत वित्त भी कहते हैं। इसमें व्यक्ति अपने निजी आवश्यकताओं के मुताबिक अपने पैसों को अपनी जरूरत के हिसाब से इस्तेमाल करता है। और हर व्यक्ति का पैसा इन्वेस्ट करने का तरीका अलग अलग होता है। तू इसी प्रकार के अलग-अलग तरीकों से पैसों को इन्वेस्ट करना या फिर मैनेज करना यह प्रक्रिया पर्सनल lo फाइनेंस कहलाती है।

कॉरपोरेट फाइनेंस

इस फाइनेंस को निगम वित्त कहा जाता है. इसके अंदर कोई कंपनी या आर्गेनाइजेशन हो वह अपने पैसों को अपने तरीके से मैनेज कर लेता है। और यह प्रोसेस कॉरपोरेट फाइनेंस कहलाता है। किसी कंपनी या फिर ऑर्गेनाइजेशन सबसे पहले फाइनेंसियल प्लानिंग बनाते हैं। इसके बाद वह पैसे अरेंज कर लेती हैं। और पैसों को सही तरीके उपयोग करते हुए सर्विसेज बना देती हैं। और यह कॉरपोरेट फाइनेंस कहलाता है।

पब्लिक फाइनेंस

दोस्तों पब्लिक फाइनेंस को लोक वित्त भी कहते हैं। एवं सरकार को अपना शासन चलाने के लिए या विकासशील कार्य करने के लिए उसे भी फंडिंग एवं निवेश की आवश्यकता पड़ती रहती है। तो इसलिए सरकार के द्वारा टैक्स वसूला जाता है। इसके बाद पब्लिक द्वारा प्राप्त रेवेन्यू के हिसार से बजट को तैयार कर लेते हैं। इसके बाद दोस्तों इसी बजट से पब्लिक एक्सपेंडिचर भी करती है। और दोस्तों यह संपूर्ण प्रक्रिया पब्लिक फाइनेंस कहलाती है।

फाइनेंस कंपनी का क्या काम होता है?

दोस्तों हम आपको यहां पर बता दें कि फाइनेंस कंपनी में तीनों फाइनेंस का एक प्रकार का ही काम होता है। उदाहरण के तौर पर जैसे- फंड की व्यवस्था करना, अच्छे से इन्वेस्टमेंट करना एवं कम ब्याज पर लोन हासिल करना एवं बैंकिंग आदि लेकिन तीनों फाइनेंस में इसका काम बहुत अलग-अलग पाया जाता है। किसी कंपनी या आर्गेनाइजेशन का अपनी कंपनी के लिए इन्वेस्ट करना या फिर किसी व्यक्ति के लिए इन्वेस्ट करना यह सरकार के लिए इसका इस्तेमाल करने का काम कंपनी के ऊपर ही निर्भर होता है।

Gb Whatsapp

फाइनेंस के क्या-क्या फायदे होते हैं?

दोस्तों अब तक आप लोगों ने यह जाना है। कि फाइनेंस क्या होता है? और यह काम कैसे करता है?फाइनेंस कंपनी का क्या काम होता है? ऐसे मैं आप सभी लोगों के मन में एक सवाल तो फिर भी आया होगा कि आखिरकार फाइनेंस कंपनी के कौन कौन से फायदे होते होंगे? जी हां साथियों फाइनेंस कंपनी के कुछ फायदे भी होते हैं। जिनके बारे में हम आपको बस बताने जा रहे हैं। इसलिए पोस्ट को थोड़ा और आगे तक पढ़े।

1. दोस्तों अगर आप लोग फाइनेंस कंपनी में इन्वेस्ट करते हो तो इससे आप लोग अच्छा खासा प्रॉफिट हासिल कर सकते हो।
2. इसके अंदर आप लोग कई प्रकार से इन्वेस्ट कर सकते हो उदाहरण के तौर पर पर्सनल फाइनेंस, कॉरपोरेट फाइनेंस एवं पब्लिक फाइनेंस इत्यादि।

👉 fixed-deposit-kya-hai

निष्कर्ष

दोस्तों आज किस आर्टिकल के अंदर हमने आपको बताया है। कि फाइनेंस क्या होता है। और यह कितने प्रकार का होता है?एवं फाइनेंस कंपनी का मुख्य काम क्या है? सभी प्रकार की जानकारी हमने आपको इस पोस्ट के माध्यम से दे दी है। हमें आशा है। कि आप को उसे जानकारी से बहुत कुछ नया सीखने के लिए मिला होगा यदि आपको यह पोस्ट पसंद आई हो तो आप इसे आगे तक जरूर शेयर करें धन्यवाद।

Leave a Comment