SEO क्या है और कैसे किया जाता है ? फुल जानकारी हिन्दी में |

SEO कैसे करें ? संपूर्ण जानकारी 2021

नमस्कार दोस्तों, स्वागत है आपका एक बार फिर से हमारी वेबसाइट के अंदर। दोस्तों आज हम आपको बताएंगे कि SEO कैसे करें? क्योंकि इसके बिना हमारे आर्टिकल रैंकिंग नहीं करते और यह अन्य कार्यों के लिए भी महत्वपूर्ण हो जाती है हमारे ब्लॉग में। तो दोस्तों चलिए आज हम आपको इस के फंडे को ही समझाते हैं, मेरा कहने का मतलब है इसके बारे में बताते हैं-

तो दोस्तों हमने नीचे आपको जिन जिन तरीकों को बताया है। आप उनको फॉलो करेंगे तो आप निश्चित रूप से SEO कर पाएंगे-

1.ब्लॉग को अच्छी तरह से डिजाइन करें-

जी हां दोस्तों, तुम्हें अपने ब्लॉग को अच्छी तरह से डिजाइन करना है । क्योंकि यदि तुम्हारे ब्लॉग की अच्छी तरह से डिजाइनिंग नहीं होगी तो लोग उस पर अधिक ध्यान नहीं देंगे । क्योंकि आजकल जो अधिक अच्छा दिखावा करता है लोग उसे मानते हैं (जो दिखता है वह बिकता है) तो इसलिए दोस्तों आपको अपना ब्लॉग बेहतरीन से बेहतरीन तरीके से डिजाइन करना है। ताकि जो भी बंदा आपके ब्लॉग पर आए वह उसे देखकर प्रभावित हो, कुछ इस प्रकार का आपका ब्लॉग डिजाइन होना चाहिए।

दोस्तों तुम्हें बता दूं कि पोस्ट में हेडिंग तथा सब हेडिंग्स का कीवर्ड्स के साथ इस्तेमाल करना और यदि कोई खास बात है तो उसे पैराग्राफ या फिर Quotation, अथवा किसी के सोर्स को पोस्ट में दिखाना चाहते हैं तो block quote का इस्तेमाल करें। Block quote तुम्हारे कंटेंट को महत्व देता है । क्योंकि तुम कंटेंट के बारे में जो कुछ भी बात कुछ खास अंदाज में लोगों के सामने प्रस्तुत करते हैं तो इससे तुम्हारे आर्टिकल को अच्छी रैंकिंग मिलती है और इसे जोड़ने के लिए पैराग्राफ को सेलेक्ट करके ऊपर टूल बार में quote के symbol को क्लिक कर दें।

दोस्तों एक और खास बात बता दूंगा आपको कि आप अपने आर्टिकल्स में आवश्यकता से अधिक विज्ञापन न लगाएं, क्योंकि इससे तुम्हारे ब्लॉग पर एडलिमिट आने का खतरा होता है।

2. अच्छा कंटेंट लिखने की कोशिश करें-

दोस्तों यदि तुम्हें SEO करना है तो आपको बेहतरीन से बेहतरीन कंटेंट लिखना होगा। और वास्तव में यदि सही पूछा जाए तो इंटरनेट की स्टार्टिंग कंटेंट्स को लोगों तक पहुंचाने के लिए ही हुई है। दोस्तों यदि तुम्हारे ब्लॉग में यूनिक क्वालिटी वाले आर्टिकल हैं तो SEO और बैकलिंक्स के माध्यम से तुम्हें अधिक मेहनत करने की आवश्यकता नहीं पड़ेगी । सिर्फ लोगों को तुम्हें वही देना होगा जो वे चाहते हैं। यदि वह जानकारी उनको मिल जाती है तो यूं समझ लीजिए फिर आपका कंटेंट अच्छा है और यदि आपने उसमें फालतू की बातें डाली और जो पूछा गया है वह नहीं बताया तो यूं समझ लीजिए आपका आर्टिकल बकवास है, बेकार है, किसी काम लायक नहीं है, दोस्तों यह बात सौ पर्सेंट सही है कि यदि उन्हें तुम्हारी वेबसाइट पर अच्छी जानकारी मिली तो वह तुम्हारी वेबसाइट पर बार-बार आएंगे‌। और अधिकतर कोशिश करेंगे कि तुम्हारी वेबसाइट से ही जानकारी लें क्योंकि उन्हें फिर विश्वास हो चुका होता है इसलिए आप अपनी वेबसाइट पर बेहतरीन से बेहतरीन और यूनीक कंटेंट डालें।

दोस्तों एक बार सोच कर देखिए कि कितने ब्लॉकर्स होंगे जिनकी वेबसाइट पर लोग जाते हैं जिनको तुमने बुकमार्क किया हुआ है। जिसका ब्लॉग एड्रेस तुम्हें याद है सोचिए तुम क्यों किसी खास ब्लॉक को ही बजट करते हैं। क्या तुम्हें उस ब्लोग के कीवर्ड्स पसंद हैं? क्या तुम रैंकिंग की वजह से वहां जाते हैं? क्योंकि तुम्हें उनके आर्टिकल अच्छे लगते हैं और जानकारी योग्य लगते हैं। तभी तो आप उनकी वेबसाइट पर जाते हैं तो दोस्तों कुल मिलाकर हम इतना कहना चाहते हैं कि अपनी वेबसाइट पर ओरिजिनल आर्टिकल डालो‌। अपनी खुद की जानकारी से ही आर्टिकल लिखो यही रहस्य होता है SEO का।

दोस्तों तुम्हें बता दूं कि जो तुम लिखने जा रहे हो कहीं ऐसा तो नहीं है कि आपके कंपिटीटर्स ने भी वही लिखा है यह आप अवश्य देख लें और उनसे हटके अपना आर्टिकल लिखें। ताकि आपका आर्टिकल ओरिजिनल हो यूनिक हो। लेकिन हम यह नहीं कहना चाहेंगे कि जो जरूरी बात है दूसरे के आर्टिकल में लिखी है आप उसे नहीं लिखें, आप उसको जरूर करें चाहे वह आपके दूसरे लोगों ने पहले से ही अपनी वेबसाइट के आर्टिकल पर डाल रखी हो क्योंकि वह मुख्य चीज है तो आपको डालनी ही डालनी है।

दोस्तों मैं तुम्हें बता दूं कि ब्लॉगिंग में किसी के विचारों को चुरा लेना कोई गलत नहीं है। बस आपको उसकी सेम कॉपी नहीं करनी है । आप उसे अपने तरीके से लिखें और पूरी कोशिश करें कि वह उससे हटकर जिसकी आपने कॉपी की है अर्थात जिस के विचारों को आपने पढकर अपना आर्टिकल लिखा है वह उससे अलग होना चाहिए । तभी आपका आर्टिकल यूनिक हो सकता है।

दोस्तों आपको अच्छे बैकलिंक्स बनाने चाहिए और यदि तुम्हारा कंटेंट अच्छा नहीं होगा तो तुम्हारी पोस्ट की रैंकिंग नहीं हो सकती है। इसलिए कंटेंट अच्छा लिखें, खुद की नॉलेज के आधार पर लिखें।

3. बहुत अच्छे बैकलिंक्स बनाने की कोशिश करें-

दोस्तों मेरे ख्याल से आपको पता होगा कि बैकलिंक्स क्या होते हैं। यदि आपको नहीं पता है तो मैं तुमको पहले इस के ही बारे में बताऊंगा। तो दोस्तों तुम्हें बता दूं कि दूसरी वेबसाइट से तुम्हारी वेबसाइट पर लिंक बनता है तो उसे “बैकलिंक कौनसाईडर” कहा जाता है । यह दो प्रकार के होते हैं-

1. Do follow

2. No follow

यदि बात dofollow backlink की कीजाए तो यह तुम्हारे आर्टिकल को रैंकिंग में लाने में सहायता करता है, क्योंकि ये link juice pass करते हैं।

यदि वहीं बात की जाए No-follow लिंक की, तो यह इतनी ज्यादा महत्व की नहीं होती है क्योंकि यह link juice pass नहीं करती है। वैसे दोस्तों हम जानते हैं कि तुम बैकलिंक्स सुनकर थोड़े हैरान हो जाते हैं! लेकिन SEO बैकलिंक्स के महत्व को हम नकारते नहीं है परंतु यह हमें ध्यान में रखना चाहिए कि गूगल ने हमें बता दिया है कि backlinks की गेम अब बदल चुकी है। अब वह वक्त नहीं रहा, जब लोग खराब कंटेंट को भी खरीद लेते थे और कुछ हजार बैकलिंक बनाते तथा रैंक कर जाते थे।

अब जमाना जैसे-जैसे मॉडर्न होता जा रहा है उसी प्रकार से बैंक लिंक को भी अत्यधिक महत्व दिया जा रहा है और बैकलिंक्स को आवश्यक समझा जाने लगा है । दोस्तों तुम्हें बता दूं कि इसमें ऑनलाइन लिंक सेलिंग करती कंपनी का सबसे बड़ा हाथ है। क्योंकि इसमें इनका लाभ है।

इन व्यक्तियों ने बैकलिंक्स की अफवाह को बहुत ज्यादा फैला दिया है कि अनेकों ब्लॉगर्स यह समझने लगते हैं कि यदि हमने अधिक बैकलिंक्स नहीं बनाए तो हमारा ब्लॉग SERP में कभी भी उन्नति नहीं करेगा। और ना ही आगे जा सकेगा और वह इसलिए पैसे खर्च करते हैं और लिंक्स को खरीदते हैं और इसके बदले उनको बाद में नुकसान झेलना पड़ता है।

दोस्तों तुम्हें बता दूं कि किसी भी बेव पेज में यदि तुम्हारे पेज की लिंक है तो आप दोनों के कंटेंट एक समान होने चाहिए लेकिन लिंक्स खरीदने पर यह नहीं होता है। तुम्हारे लिंक मोल्डिंग करने का तरीका नेचुरल होना आवश्यक है। यदि तुम 1 दिन में अनेकों लिंक्स बनाते हैं तो यह बिल्कुल प्राकृतिक नहीं है और आपको बता दूं कि लिंक्स खरीदने पर भी तुम्हारे साथ यही होता है।

Mk PUBG GURU

पेटीएम डेबिट कार्ड अप्लाई कैसे करते हैं? 2021

 

दोस्तों तुम्हारे बेव पेज में ऐसी कोई भी कंडीशन नहीं होनी चाहिए जो गूगल के terms and condition का अनुसरण ना करें। Forums में टिप्पणी जोड़ने से पहले आपको कुछ बातों पर ध्यान देना चाहिए। अनेकों Forums ऐसे होते हैं जिसमें खराब कंटेंट अपलोड की जाती हैं‌। जिन्हें गूगल पसंद नहीं करता है। यदि ऐसे forums में तुमने कोई लिंक ऐड की तो गूगल यह जान जाएगा कि आप ऐसे ही कंटेंट को वैल्यू देते हैं और वह तुम्हारे ब्लॉग को कभी रैंक में नहीं लाएगा।

4. ब्लॉग एड्रेस को अच्छी तरह से रीडायरेक्ट करें-

दोस्तों आप ब्लॉग की स्टार्टिंग में ही सेलेक्ट करलें कि तुमको WWW का प्रयोग करना है अथवा नहीं। फिर तुम WWW और Non-www वर्जन दोनों को एक पते पर रीडायरेक्ट करें।

दोस्तों यदि तुम वर्डप्रेस वेबसाइट का प्रयोग कर रहे हैं तो वर्डप्रेस ऐसा स्वयं ही कर देता है।

अपनी पोस्ट के पते को चुनें। हर पोस्ट के पते के अंत में डेट दिखाई देती है। वह दिखने में SEO के मुताबिक सही नहीं है। तो तुम अपनी पोस्ट के अलावा पोस्ट नेम अवश्य कर दें।

5. Internal linking-

दोस्तों तुम्हें बता दूं कि इंटरनल लिंकिंग का अर्थ होता है अपने ब्लॉक की ही एक पोस्ट में आपके ही ब्लॉग की कोई दूसरी पोस्ट का लिंक का होना।

यदि तुम्हें यह बात समझ में नहीं आ रही है तो मैं आपको दूसरे, अलग तरीके से समझाता हूं। जैसे मान लीजिए तुम्हारी वेबसाइट का कोई पहला आर्टिकल है और जब तुम अपनी वेबसाइट के लिए दूसरा आर्टिकल लिख रहे हो तो आपको पहले आर्टिकल का दूसरे आर्टिकल में लिंक देना ही इंटरनल लिंकिग होता है।

इससे तुम्हें जो डोमेन अथॉरिटी मिली हुई होती है बे सब पेजेस में डिस्ट्रीब्यूट होती रहती हैं।

वैसे तुम चाहो तो अपने एक आर्टिकल में लगभग दो या तीन इंटरनल लिंक लगा सकते हैं। परंतु दोस्तों आपको इस बात पर ध्यान देना होगा कि आपकी इंटरनल लिंकिंग रिलेटेड या मिलते जुलते कंटेंट पर ही होना चाहिए।

6. ALT Tag-

दोस्तों मैं तुम्हें बता दूं कि आप pic upload में ALT Tag अवश्य लिखें। और तुम्हें बता दूं कि यह एक तरह से रैंकिंग फैक्टर भी होता है तथा सर्च इंजन को फोटोस को समझने में यह सहायता करता है। तो दोस्तों यह थी जानकारी जिससे तुम SEO कर सकते हो। दोस्तों मैं आशा करता हूं कि यह जानकारी तुम्हें अच्छी तरह से समझ में आ चुकी होगी। इस जानकारी को सोशल मीडिया पर अवश्य शेयर करें। धन्यवाद।

Leave a Comment